मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय – Munshi Premchand Ka Jeevan Parichay

Spread the love

इस लेख में आपको महान लेखक मुंशी प्रेमचंद जी की जीवनी ( Munshi Premchand Ki Jivani ) पढ़ने को मिलेगी। इस पोस्ट में हमनें मुंशी प्रेमचंद जी का पूरा जीवन परिचय ( Munshi Premchand Ka Jeevan Parichay ) दिया है। उम्मीद करता हूं आपको हमारी यह पोस्ट काफी पसंद आएगी तथा आपको महत्वपूर्ण जानकारी मिल पाएगी।

Munshi Premchand Ka Jeevan Parichay

Munshi Premchand, हिंदुस्तानी साहित्य और एक महान लेखक थे। प्रेमचंद जी ने बहुत से उपन्यास, कहानी और नाटक लिखे थे। मुंशी प्रेमचंद का जन्म 31 जुलाई 1880 में लमही गाँव (वाराणसी के पास) में हुआ था। वह 20 वीं शताब्दी के शुरुआती दिनों के प्रसिद्ध लेखक थे।

उनका जन्म का नाम धनपत राय श्रीवास्तव था और कलम का नाम नवाब राय था। उन्होंने अपने कलम नाम के साथ अपने सभी लेखन को लिखा। अंत में, उन्होंने अपना नाम बदलकर मुंशी प्रेमचंद रख लिया।

इसे भी पढ़ें: महादेवी वर्मा का पूरा जीवन परिचय

Munshi Premchand ने एक हिंदी लेखक के रूप में लगभग एक दर्जन उपन्यास, 250 लघु कथाएँ, कई निबंध और अनुवाद लिखे (उन्होंने कई विदेशी साहित्यिक कृतियों का हिंदी भाषा में अनुवाद किया)। अपने प्रारंभिक जीवन में उन्होंने अपना बचपन लमही में एक संयुक्त परिवार में बिताया।

उनके पिता का नाम अजायब रॉय तथा उनकी माता का नाम आनन्दी देवी था। उनके पिता पोस्ट ऑफिस में क्लर्क के पद पर कार्यरत थे। उनके दादा श्री गुरु सहाय रॉय था जिनसे प्रेमचंद जी सबसे अधिक प्यार करते थे। उनके दादा जी पटवारी थे।

Munshi Premchand
Munshi Premchand

Munshi Premchand ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा 7 साल की उम्र में लालपुर गाँव के एक मदरसे (लमही से लगभग ढाई किमी दूर) में शुरू की जहाँ उन्होंने उर्दू और फ़ारसी भाषा सीखी। उन्होंने किसी बीमारी के कारण 8 साल की उम्र में अपनी माँ को खो दिया और बाद में अपनी दादी को भी।

Munshi Premchand जी काफी अकेला महसूस करते थे। मुंशी प्रेमचंद जी के पिता ने दूसरी शादी कर ली थी। प्रेमचंद जी के जीवन मे माँ के प्यार की काफी कमी रही। बाद में उनका अकेलापन उनकी रचनाओं में आवर्ती विषय बन गया।

मुंशी प्रेमचंद जी का प्रारंभिक कैरियर

Munshi Premchand ने अपनी माँ की मृत्यु के बाद किताबों को पढ़ने में बहुत रुचि विकसित की। उन्होंने किताबों के थोक विक्रेता से किताबों की बुकिंग करवाने का काम किया ताकि उन्हें और अधिक किताबें पढ़ने का मौका मिल सके।

उन्होंने एक मिशनरी स्कूल में प्रवेश लिया जहाँ उन्होंने अंग्रेजी सीखी और जॉर्ज डब्ल्यू० एम० रेनॉल्ड्स के आठ-खंडों को “द मिस्ट्री ऑफ लंदन” के नाम से पढ़ा। वह गोरखपुर में थे जब उन्होंने अपना पहला साहित्यिक लेखन किया था। वह हमेशा अपने हिंदी साहित्य में सामाजिक यथार्थवाद के बारे में लिखते थे और समाज में एक महिला की स्थिति पर चर्चा करते थे।

इसे भी पढ़ें: सुमित्रानंदन पंत जी की जीवनी


उन्होंने अपने पिता के 1890 के दशक में जामनीया में ट्रांसफर किए जाने के बाद बनारस के क्वीन्स कॉलेज में दाखिला लिया। वह कक्षा 9 में पढ़ रहा था जब उसकी शादी 1895 में 15 साल की उम्र में हुई थी। वर्ष 1897 में अपने पिता की मृत्यु के बाद उनकी पढ़ाई बंद हो गई क्योंकि अब उनपर घर की जिम्मेवारी थी।

उन्होंने बनारसी अधिवक्ता के बेटे को सिर्फ 5 रुपये प्रति माह पर ट्यूशन देना शुरू कर दिया था। बाद में उन्हें 18 रुपये के वेतन के साथ एक शिक्षक की नौकरी मिली। वर्ष 1900 में, उन्होंने सरकारी जिला स्कूल, बहराइच में एक सहायक शिक्षक के रूप में सरकारी नौकरी प्राप्त की और वेतन के रूप में 20 रुपये प्रति माह मिलने लगा।

लगभग 3 साल बाद वह प्रतापगढ़ के जिला स्कूल में तैनात थे। उन्होंने अपना पहला लघु उपन्यास “असरार ए माबिड” के शीर्षक से लिखा है, जिसका अर्थ है देवस्थान रहस्य तथा हिंदी में “भगवान के निवास का रहस्य”

बाद में वह प्रशिक्षण के उद्देश्य से प्रतापगढ़ से इलाहाबाद चले गए और बाद में वर्ष 1905 में कानपुर आ गए, जहाँ उन्होंने एक पत्रिका के संपादक श्री दया नारायण निगम से मुलाकात की और उनकी पत्रिका ‘ज़माना’ थी जहाँ उन्होंने बाद में अपने लेख और कहानियाँ प्रकाशित कीं। वर्षों से मुंशी प्रेमचंद अपनी पत्नी और सौतेली माँ के झगड़े के कारण दुखी थे।

उनकी पत्नी ने भी आत्महत्या करने की कोशिश की क्योंकि उसकी माँ उसे बहुत डाँटती थी। अंत में, उसने अपने पिता के घर जाने का फैसला किया और कभी वापस नहीं लौटी। फिर मुंशीजी ने वर्ष 1906 में शिवरानी देवी नामक एक विधवा से विवाह कर लिया और श्रीपत राय और अमृत राय नामक दो पुत्रों के पिता बन गए।

अपनी दूसरी शादी के बाद, उन्हें कई सामाजिक विरोधों का सामना करना पड़ा। Munshi Premchand की मृत्यु के बाद उनकी पत्नी ने उन पर एक किताब लिखी जिसका अर्थ है प्रेमचंद। उन्होंने अपनी पहली कहानी का नाम दुनिया का सबसे अनमोल रतन, ज़माना में वर्ष 1907 में प्रकाशित किया था।

उसी वर्ष में, उन्होंने अपना दूसरा लघु उपन्यास हमखुरमा-ओ-हमस्वाब प्रकाशित किया। एक और लघु उपन्यास “कृष्णा” है और कहानियाँ “रूठी रानी” तथा ​​सोज़-ए-वतन आदि हैं।

इसे भी पढ़ें: महात्मा गाँधी का जीवन परिचय

उन्हें वर्ष 1909 में महोबा और फिर हमीरपुर में स्कूलों के उप- निरीक्षक के रूप में नियुक्त किया गया। एक ब्रिटिश कलेक्टर की छापेमारी में “सोज़-ए-वतन” की लगभग 500 प्रतियां जला दी गईं। यही कारण है कि उन्होंने अपना नाम “नवाब राय” से बदलकर “प्रेमचंद” कर लिया। उन्होंने 1914 में हिंदी में लिखना शुरू किया।

Munshi Premchand का पहला हिंदी लेखन “सौत” दिसंबर 1915 में सरस्वती मैगज़ीन में तथा जून 1917 में सप्त सरोज प्रकाशित हुआ। अगस्त 1916 में Munshi Premchand को सामान्य हाई स्कूल गोरखपुर में एक सहायक मास्टर के रूप में पदोन्नत किया गया। गोरखपुर में उन्होंने कई पुस्तकों का हिंदी में अनुवाद किया।

“सेवा सदन” (मूल भाषा उर्दू तथा जिसका शीर्षक बाज़ार-ए-हुस्न था) नाम से उनका पहला हिंदी उपन्यास वर्ष 1919 में हिंदी में प्रकाशित हुआ था। उन्हें इलाहाबाद से बीए की डिग्री पूरी करने के बाद वर्ष 1921 में स्कूलों के उप निरीक्षक के रूप में पदोन्नत किया गया था।

उन्होंने 8 फरवरी 1921 को गोरखपुर में आयोजित एक बैठक में भाग लेने के बाद सरकारी नौकरी से इस्तीफा देने का फैसला किया। जब महात्मा गांधी ने लोगों से असहयोग आंदोलन में शामिल होने के लिए कहा था।

मुंशी प्रेमचंद जी वाराणसी में

18 मार्च 1921 को नौकरी छोड़ने के बाद वे वाराणसी वापस चले गए और अपने साहित्यिक करियर पर ध्यान देना शुरू कर दिया। इस अवधि के दौरान उन्होंने 1936 में अपनी मृत्यु तक वित्तीय समस्याओं और खराब स्वास्थ्य का सामना किया।

Munshi Premchand ने वर्ष 1923 में वाराणसी में सरस्वती प्रेस नाम से अपना स्वयं का प्रिंटिंग प्रेस और पब्लिशिंग हाउस स्थापित किया, जहाँ उन्होंने अपनी लेखनी रंगभूमि, निर्मला, प्रतिज्ञा, गबन, हंस तथा जागरण प्रकाशित की। पुन: वे वर्ष 1931 में एक मारवाड़ी कॉलेज में शिक्षक के रूप में कानपुर आ गए।

इसे भी पढ़ें: शहीद भगत सिंह का जीवन परिचय

कॉलेज छोड़ने के बाद वह बनारस वापस मर्यादा पत्रिका के संपादक के रूप में आए, जहाँ उन्होंने वर्ष 1932 में “कर्मभूमि” उपन्यास प्रकाशित किया। शीघ्र ही उन्होंने काशी विद्यापीठ में हेडमास्टर के रूप में और बाद में लखनऊ में माधुरी पत्रिका के संपादक के रूप में सेवा की।

Munshi Premchand जी का बाद का जीवन

उन्होंने 1934 में बॉम्बे में हिंदी फिल्म उद्योग में अपनी किस्मत आजमाई और अजंता सिनेटोन प्रोडक्शन हाउस से पटकथा लेखन में नौकरी हासिल कर ली। उन्होंने मोहन भवानी द्वारा फिल्म “मजदूर” के लिए फिल्म की पटकथा लिखी। उन्होंने उसी फिल्म में एक कैमियो रोल (मजदूरों का नेता) की भूमिका निभाई।

उन्हें बॉम्बे के व्यावसायिक फिल्म उद्योग का माहौल पसंद नहीं आया और एक साल का अनुबंध पूरा करने के बाद बनारस वापस आ गए। अपने खराब स्वास्थ्य के कारण, वह हंस नामक अपने लेखन को प्रकाशित करने में असमर्थ थे और इसे भारतीय साहित्य परामर्शदाता को सौंप दिया।

वर्ष 1936 में, उन्हें लखनऊ में प्रगतिशील लेखक संघ के पहले अध्यक्ष के रूप में नामित किया गया था। अपनी बीमारी के कारण, उनकी 8 अक्टूबर 1936 को उनकी मृत्यु हो गयी।

उनका अंतिम और प्रीमियम हिंदी उपन्यासों में से एक है गोदान। वह लेखन या अध्ययन के उद्देश्यों के लिए देश से बाहर कभी नहीं गए। “कफ़न” नामक उनका लेखन वर्ष 1936 में उनके सबसे अच्छे लेखन में से एक था। उनकी आखिरी कहानी क्रिकेट मैच थी जो “ज़माना” में उनकी मृत्यु के बाद 1937 में प्रकाशित हुई थी।

Munshi Premchand जी की लेखन शैली

Munshi Premchand गांव से थे और वे गांव के माहौल से अच्छी तरह वाकिफ थे। हम उनके लेखन में कहावतों और मुहावरों का संयोजन पा सकते हैं। उनका लेखन सरल था लेकिन साथ ही दिलचस्प भी। मूल रूप से, उन्होंने उर्दू में लिखना शुरू किया ताकि हम कुछ आधुनिक शब्दों को पा सकें जो उनके काम में उर्दू और हिंदी के मिश्रण के रूप में जाने जा सकते हैं।

उन्होंने एक आम आदमी की भाषा का इस्तेमाल किया और आम लोगों के लिए उनकी कहानियों से परिचित होना आसान हो गया। उनका काम एक गांव का प्रतिबिंब था और बहुत प्रभावी भी था। वह सिर्फ अपने काम के कारण एक नायक बन गए और हमें यह भी सिखाते हैं कि अच्छी सामग्री और दर्शकों का ध्यान आकर्षित करना इस क्षेत्र में अधिक आवश्यक है। फिर भी हर कोई एक अच्छा लेखक नहीं हो सकता है।

मुंशी प्रेमचंद जी की प्रेरणा

Munshi Premchand गांधीजी से काफी प्रभावित थे। जब वे गोरखपुर में एक बैठक में उनसे मिले थे, क्योंकि सभी प्रकार की सरकारी नौकरियों में इस्तीफा देने के लिए लोगों में एक मजबूत विरोध था। प्रेमचंद ने उनका अनुसरण किया और इलाहाबाद में स्कूलों के उप निरीक्षक के पद से इस्तीफा दे दिया।

इसे भी पढ़ें: हिमा दास का जीवन परिचय

उनकी सामाजिक प्रेरणा के अलावा, उनकी सौतेली माँ को भी उनकी प्रेरणा माना जाता है क्योंकि उन्होंने अपने पिता की मृत्यु के बाद उन्हें अपनी पढ़ाई और किताबों को पढ़ने के लिए प्रेरित किया और वे किताबों के करीब हो गए और अपना साहित्यिक काम शुरू किया।

मुंशी प्रेमचंद की कहानियाँ – Premchand Ki Kahaniya

अदीब की इज्जत, बडे भाई साहब, बलीदान बेटी का धन, बूढी काकी, क्रिकेट की प्रतियोगिता, दुनिया का सबसे अनमोल रतन, दुर्गा का मंदिर, घासवाली, गुप्त धन, हिनसा परमो धर्म, ईदगाह, ईष्वरीय न्याय, कफन, लॉटरी, मंत्र, नमक का दरोगा, नशा, पंच परमेस्वर, परीक्षा, पूस की रात, पुत्र प्रेम, सज्जनता का दण्ड, सौत, शतरंज के खिलाड़ी (हिंदी) शतरंज की बाजी (उर्दू), मानसरोवर, नवनिधि, प्रेम पचीसी, प्रेम पूर्णिमा, गुल्ली डंडा, दो बेलों की कथा, ठाकुर का कुआं, दूध का दाम।

मुंशी प्रेमचंद जी के उपन्यास – Munshi Premchand Ke Upanyas

असरार-ए-माबिद (उर्दू), देवस्थान रहस्या (हिंदी), प्रेमा (हिंदी), हमखुरमा-ओ-हमसवाब (उर्दू), किशना, रूठी रानी, सोज़-ए-वतन (संग्रह), वरदान (हिंदी), जलवा-ए-इसर (उर्दू), सेवा सदन (हिंदी), बाजार-ए-हुस्न (उर्दू), प्रेमाश्रम (हिंदी), गोशाला-ए-अफियात (उर्दू), रंगभूमि (हिंदी), चौगान-ए-हस्ती (उर्दू), निर्मला, कायाकल्प (हिंदी), परदा-ए-मजाज़ (उर्दू), प्रतिज्ञा (हिंदी), बेवा (उर्दू), गबन, कर्मभूमि (हिंदी), मैदान-ए-अमल (उर्दू), गोदान, मंगलसूत्र (अधूरा)।

इसे भी पढ़ें: तुलसीदास जी का जीवन परिचय

मुंशी प्रेमचंद के नाटक

संग्राम (1923)

कर्बला (1924)

प्रेम की वेदी (1933)

FAQ About Munshi Premchand

Q.1. मुंशी प्रेमचंद का वास्तविक नाम क्या था?

धनपत राय उनका असली नाम था लेकिन उन्होंने नवाब राय को अपने कलम नाम के रूप में इस्तेमाल किया जिसे उन्होंने आगे बदलकर मुंशी प्रेमचंद कर दिया।

Q. 2. प्रेमचंद की सर्वश्रेष्ठ साहित्यिक रचनाएँ क्या हैं?

गोदान, निर्मला, कफन, पूस की रात, दो बलो की कथा, आदि उनकी कुछ बेहतरीन रचनाएँ हैं।

Q. 3. मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखित पहला उपन्यास कौन सा है?

उनका पहला लेखन कार्य सेवा सदन था जो वर्ष 1919 में प्रकाशित हुआ था।

Q. 4. Munshi Premchand ने कितनी किताबें लिखीं?

प्रेमचंद ने 300 से अधिक लघु कथाएँ, नाटक, कई पत्र, अनुवाद तथा 14 उपन्यास आदि लिखे। उनके कई नाटकों और कहानियों का मरणोपरांत विभिन्न विदेशी भाषाओं में अनुवाद किया गया है।

Q. 5. मुंशी प्रेमचंद का पहला वेतन क्या था?

उन्होंने 18 रुपये में नौकरी शुरू की जिसे आगे बढ़ाकर 20 रुपये कर दिया गया।

आशा करता हूं दोस्तों मुंशी प्रेमचंद जी की जीवनी ( Munshi Premchand Biography In Hindi ) के इस लेख में आपको मुंशी प्रेमचंद के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां मिल पाई होंगी। हमने मुंशी प्रेमचंद जी का जीवन परिचय ( Munshi Premchand Ka Jeevan Parichay ) पूरी आसान भाषा में लिखा है।


अगर आपके मन में कोई पसंद है या आपको कोई गलती या कोई कमी नजर आती है तो आप हमें कमेंट बॉक्स के माध्यम से लिख सकते हैं। अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।


Spread the love

मेरा नाम Sandeep Karwasra है और में easyeducation22.com ब्लॉग का ऑनर हूँ। मेरी रुचि हिंदी भाषा में है।

Leave a Comment