जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय Jaishankar Prasad Ki Jivani

Spread the love

इस लेख में आपको महान लेखक जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय ( Jaishankar Prasad Ka Jivan Parichay ) पढ़ने को मिलेगा। एग्जाम में बहुत बार Jaishankar Prasad Biography In Hindi पूछी जाती है। इस लेख में आपको जयशंकर प्रसाद जी का पूरा जीवन परिचय पढ़ने को मिलेगा।

जयशंकर प्रसाद की जीवनी – Jaishankar Prasad Ki Jivani

आधुनिक हिंदी साहित्य और हिंदी रंगमंच से संबंधित सबसे प्रसिद्ध व्यक्तित्व जयशंकर प्रसाद का जन्म 30 जनवरी 1889 में हुआ था और 14 जनवरी 1937 में उनका निधन हो गया। वह एक महान भारतीय कवि, उपन्यासकार और नाटककार थे, जिनका जन्म भारत में हुआ था।

Jaishankar Prasad का जन्म उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के सरायगोवर्धन नामक स्थान पर हुआ था। जयशंकर प्रसाद के दादा जी का नाम शिव रत्न साहू था। Jaishankar Prasad के पिता का नाम बाबू देवी प्रसाद था। इनके दादा ओर इनके पिताजी तम्बाकू का व्यवसाय किया करते थे जिसके कारण इनका परिवार पूरे काशी में सुंघनी साहू के नाम से प्रसिद्ध था

Jaishankar Prasad को अपने शुरुआती जीवन में कुछ वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ा क्योंकि उन्होंने अपने पिता को छोटी उम्र में ही खो दिया था।

इसे भी पढ़ें: मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय

जयशंकर प्रसाद की शिक्षा – Jaishakar Prasad Education In Hindi

इस तरह की वित्तीय समस्याओं के कारण जयशंकर प्रसाद 8 वीं कक्षा से आगे की पढ़ाई नहीं कर सकते थे। हालाँकि, वह कई भाषाओं, पिछले इतिहास और हिंदी साहित्य को जानने के लिए उत्सुक थे, इसीलिए उन्होंने घर पर अपना अध्ययन जारी रखा।

Jaishankar Prasad ने अपने जीवन की प्रारम्भिक शिक्षा काशी के क्वीन्स कॉलेज से प्राप्त की। दीनबंधु ब्रह्मचारी ने इन्हें संस्कृत, हिंदी, उर्दू, तथा फारसी भाषा का ज्ञान दिया।

जयशंकर प्रसाद वेदों से बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने बहुत कम उम्र से कविता लिखना शुरू कर दिया था। उन्हें अपने घर पर शतरंज खेलने और बागवानी का काम करने का भी शौक था। उनकी वेदों में काफी हद तक दिलचस्पी थी, जिसने उन्हें अपनी कविता, नाटक, कहानी और उपन्यास लिखने के लिए बेहद प्रभावित किया।

उन्होंने अपनी कविता संग्रह की पहली किताब हिंदी में ब्रज के शब्दजाल में चित्राधर के रूप में लिखी है, जो उस समय उत्तर प्रदेश राज्य में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया गया था। उनकी कविताओं को लोगों ने बहुत पसंद किया क्योंकि उनकी भाषा दिल को छूने वाली, नरम, सरल और भावुक थी।

उन्होंने कविताओं की भाषा के साथ-साथ दार्शनिक सामग्री पर भी बहुत ध्यान दिया था। इसीलिए उन्हें एक विश्वस्तरीय हिंदी साहित्यकार, दार्शनिक और महान लेखक के रूप में जाना जाता है। उन्होंने रोमांटिक से लेकर देशभक्ति तक कई विषयों में अपनी कविता लिखी।


उनके करियर की सबसे प्रमुख देशभक्ति कविता “हिमाद्री तुंग श्रृंग से” के नाम से जानी जाती है, जिसे उन्होंने देश की आजादी से पहले अंग्रेजों के समय में लिखा था। उन्होंने अपने जीवन का मध्य कैरियर उपन्यासों, नाटकों और कविताओं को लिखकर बिताया। उन्होंने खुद को संस्कृत और संस्कृत से संबंधित अन्य भाषाओं से प्रभावित किया। उन्होंने अपने कुछ नाटक फारसी और बंगाली भाषाओं में लिखे थे।

इसे भी पढ़ें: महात्मा गाँधी का जीवन परिचय

व्यवसाय

उन्होंने अपनी पहली कविता (चित्राधर संग्रह के रूप में जानी जाती है) को ब्रज भाषा में लिखा है, लेकिन जल्द ही उन्होंने खड़ी बोली और संस्कृत में भाषा बदलना शुरू कर दिया है। उन्होंने संस्कृत भाषा में नाटक लिखना शुरू कर दिया था लेकिन बाद में उन्होंने बंगाली के साथ-साथ फ़ारसी भाषाओं में भी नाटक लिखना शुरू कर दिया था।

उनके लिखे कुछ प्रसिद्ध नाटक चंद्रगुप्त, स्कंदगुप्त और ध्रुवस्वामिनी हैं। वे हिंदी साहित्य और हिंदी रंगमंच के क्षेत्र में प्रसिद्ध व्यक्तित्व हैं। वह अपने महान और दिल को छूने वाले लेखन के साथ दुनिया को रोमांटिक बनाने वाले थे। उन्होंने अपने लेखन में कला और दर्शन को मिलाया था।

उन्होंने विभिन्न नामों को अपने लेखन का शीर्षक चुना है जो रोमांटिक से लेकर राष्ट्रवादी तक हैं। अपने महान लेखन के माध्यम से, उन्होंने शास्त्रीय हिंदी कविता का सार वर्णन किया था।

‘हिमाद्रि तुंग श्रृंग से’ उनके द्वारा लिखी गई राष्ट्रवादी कविता है, जो बाजार में प्रसिद्ध हुई जिसने उन्हें भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की अवधि में इतने पुरस्कार जीतने के लिए प्रेरित किया। कामायनी उनके द्वारा लिखी गई एक अन्य कविता है जो उनकी सर्वश्रेष्ठ रचना भी थी।

उन्होंने अपने नाटक और अन्य लेखों के माध्यम से प्राचीन भारत की कई महान हस्तियों और कहानियों का जीवन इतिहास दिखाया है। उनके लिखे नाटक हिंदी में सबसे अग्रणी साबित हुए थे।

1960 के दशक के आसपास, उनके नाटकों को प्राचीन भारतीय नाटक के प्रोफेसर शांता गांधी द्वारा आधुनिक भारतीय थिएटर के लिए चुना गया था। उन्होंने स्कंदगुप्त, वर्ष 1928 में सबसे महत्वपूर्ण लेखन लिखा है।

इसे भी पढ़ें: शहीद भगत सिंह का जीवन परिचय

Jaishankar Prasad Ki Rachnaye

Jaishankar Prasad ने कई रोचक लघु कथाएँ भी लिखी हैं, जिनके शीर्षक ऐतिहासिक से लेकर समकालीन और सामाजिक दोनों से संबंधित हैं। उनकी छोटी कहानियों में “ममता ने दिखाया माँ का प्यार” और “मुगल बादशाह की कहानी” का वर्णन किया।

एक और छोटी कहानी है “छोटा जादुगर” जो उस बच्चे का जीवन इतिहास बताता है जिसने सड़कों पर छोटे खिलौनों के साथ प्रदर्शन करके पैसा कमाना सीखा था।

जयशंकर प्रसाद की कविताएँ – Jaishankar Prasad Ki Kavitayen

  • कानन कुसुम (वन पुष्प का अर्थ है)
  • झरना (जलप्रपात का अर्थ है)
  • चित्राधर
  • लहार
  • हिमाद्रि तुंग श्रृंग से
  • महाराणा का महत्त्व
  • भारत महिमा
  • कामायनी वर्ष 1935 में (मनु और बाढ़ के बारे में एक महाकाव्य)
  • एक घुनो (मतलब एक घूंट)
  • अनु नारी
  • आतमकथ्य
  • प्रायनगीत
  • प्रेम पथिक
  • बीती विभावरी जाग री
  • कामायनी – लज्जा परिच्छेद
  • कामायनी – निर्वेद
  • महाकाव्य
  • कामना
  • चित्राधर
  • आह! वेदना मिली विदाई
  • दो बुंदे
  • तुम कनक किरण
  • अरुण याह मधुमय देश हमारा
  • सब जीवन बीत जाता है

इसे भी पढ़ें: हिमा दास का जीवन परिचय

जयशंकर प्रसाद के नाटक – Jaishankar Prasad Ke Natak

  • स्कंदगुप्त वर्ष 1928 में ( सम्राट स्कंदगुप्त का इतिहास )
  • चंद्रगुप्त ( सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य का इतिहास )
  • कामना
  • करुणालय
  • अजातशत्रु
  • ध्रुवस्वामिनी, जनमेजय का नाग यज्ञ, राजश्री
  • तस्किया
  • परिनया
  • राजश्री
  • समुद्रगुप्त
  • प्रायश्चित

जयशंकर प्रसाद की पुस्तकें

प्रतिनिधि काहनियां
प्रसाद का सम्पूर्ण काव्य
प्रसाद के सम्पूर्ण नाटक एवम एकांकी
अजातशत्रु
प्रसाद के सम्पूर्ण उपन्यास
जनमेजय का नाग यज्ञ
काव्य और कला तथा अन्य निबंध
मरुस्थल तथा अन्य कहानियां
आंधी
अति प्राचीन भारत
चर्चित कहानियां – जयशंकर प्रसाद
इंद्रजाल
जयशंकर प्रसाद – कालजयी कहानियां
जयशंकर प्रसाद की लोकप्रिय कहानियां
जयशंकर प्रसाद की रोचक कहानियां
जयशंकर प्रसाद की सर्वश्रेष्ठ कहानियां
जयशंकर प्रसाद की यादगारी कहानियां
करुणा की विजय
पाप की पराजय
जयशंकर प्रसाद ग्रंथावली

इसे भी पढ़ें: तुलसीदास जी का जीवन परिचय

लघु कथाएँ

छाया
आकाशदीप
ममता
बंदी
प्रतिध्वनि
मधुवा
इंद्रजाल
छोटा जादुगर
आंधी
पुरस्कार

Jaishankar Prasad के उपन्यास

तितली
कनकल
इरावती

कामायनी


कामायनी जयशंकर प्रसाद द्वारा लिखित एक महान और सबसे लोकप्रिय कविता है। कामायनी हिंदी भाषा में उनके सर्वश्रेष्ठ कविता संग्रहों में से एक है। कामायनी एक महाकाव्य है जिसे आज भी कविता प्रेमियों द्वारा पसंद किया जाता है। यह कविता उनके द्वारा ज्ञान, आवश्यकता और कार्य को मिलाकर लिखी गई है जो मानव जीवन के मूल तत्व हैं।

कविता में मनु, इड़ा और श्रद्धा जैसे पात्रों के माध्यम से इतिहास, संस्कृति विकास और महानता की पौराणिक कहानी का वर्णन है। जब वर्ष 1935 में कामायनी प्रकाशित हुई थी, तब इसे लोगों द्वारा काफी लोकप्रियता और आलोचनात्मक सराहना मिली।

जयशंकर प्रसाद की मृत्यु

अपने जीवन में कठिनाइयों और संघर्षों का सामना करते हुए वे अपने स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रख सके, जिसके कारण वे क्षय रोग से ग्रसित हो गए और मात्र 48 वर्ष की अवस्था में 15 नवंबर 1937 को इस संसार से विदा हो गए।

Jaishankar Prasad जी ने अपने जीवन के बहुत छोटे से समय में हिंदी साहित्य में जो योगदान दिया वह हिंदी साहित्य के लिए अमूल्य धन है। प्रसाद जी का यह साहित्यिक योगदान हिंदी साहित्य के अनंतकाल तक स्मरणीय रहेगा।

इसे भी पढ़ें: सुमित्रानंदन पंत जी की जीवनी

FAQ

Q.1. जयशंकर प्रसाद का जन्म कब हुआ था?

Jaishankar Prasad ka janm 30 जनवरी 1889 को हुआ था|

Q.2. जयशंकर प्रसाद के दो नाटकों के नाम बताओ?

स्कंदगुप्त तथा चन्द्रगुप्त जयशंकर प्रसाद के दो नाटक हैं|

Q.3. जयशंकर प्रसाद की दो कविताओं के नाम बताओ?

हिमाद्रि तुंग श्रृंग से तथा कामायनी जयशंकर प्रसाद द्वारा रचित दो प्रसिद्ध कविताएं हैं|

Q.4. जयशंकर प्रसाद की सबसे प्रमुख देशभक्ति कविता कोनसी थी?

‘हिमाद्रि तुंग श्रृंग से’ उनके द्वारा लिखी गई प्रमुख देशभक्ति कविता है|

उम्मीद करता हूँ दोस्तों इस पोस्ट में आपको जयशंकर प्रसाद जी का पूर्ण जीवन परिचय ( Jaishankar Prasad Ka Jivan Parichay ) पढ़ने को मिला होगा। अगर आपको इस पोस्ट से महत्वपूर्ण जानकारी मिली हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद।


Spread the love

मेरा नाम Sandeep Karwasra है और में easyeducation22.com ब्लॉग का ऑनर हूँ। मेरी रुचि हिंदी भाषा में है।

Leave a Comment

close